सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Translate

Self discipline And 5 easy step to achieve it in Hindi | आत्म-अनुशासन


प्रकृति हमेशा नियम का निश्चित रूप से पालन करती है। जैसे दिन-रात और अलग-अलग मौसम होते है ठीक इसी प्रकार जब एक व्यक्ति अपने आस पास के जीवन में नियमों का सही रूप से पालन करता है, तो उसे हम अनुशासन कहते हैं। और जब यह नियम हमारे अपने हो, जिनसे हमारे विचार-व्यवहार प्रभावीत होते हैं, तो उन्हें हम स्व अनुशासन कहते हैं। लोग अपने व्यवहार के कारण जाने जाते हैं और जो लोग अपने आप में अनुशासित होते हैं उनकी स्वतः एक अलग पहचान बन जाती है।

आत्म-अनुशासन का अर्थ है, किसी भी चीज़ या परिस्थिति को सही या गलत पहचानने की क्षमता जो नकारात्मक परिणामों को जन्म दे सकती है।

अनुसाशन के उच्च स्तर वाले लोग बहस में कम समय व्यतीत करते हैं और आवेगों या भावनाओं में बहने की बजाय वे वास्तविक आधार पर  निर्णय लेते है। परिणामस्वरूप, वे अपने जीवन से अधिक संतुष्ट महसूस करते हैं। ऐसी क्षमता हममे से हर किसीके पास नहीं होती क्योंकि जो काम आज तक हम करते आए हैं उस काम को करने में हमें शायद ज्यादा अनुसाशित रहने की जरूरत नहीं है।

हम अपने जीवन में ५ ऐसे तरीके का पालन करके अनुसाशन की उच्चतम सिमा पर पहुंच सकते है;
प्लान बनाये
अपनी दिनचर्या पर सख्त रहें
समय प्रबंधन
चैलेंज स्वीकार करे
अपने विकास पर ध्यान दें

प्लान बनाये
अनुशासित जीवन जीने की दिशा में पहला कदम लक्ष्य निर्धारित करना है। लक्ष्य आपको एक स्पष्ट विचार देते हैं कि क्या हासिल करना है। आपको अपने लक्ष्यों के लिए हमेशा एक समयसीमा निर्धारित करनी चाहिए। यह एक प्रेरक शक्ति के रूप में कार्य करता है और आपको कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करता है। जैसे जैसे आप अपनी काम करने के तरीको में सुधार लाएंगे वैसे वैसे ये आपकी अच्छी आदतें बनती जाएगी। और ये आदते आपको अनुसाशन से पूर्ण जीवन जीने की ओर ले जाएगी।

अधिकांश लोग अपने जीवन में कभी भी अनुशासित नहीं रहते हैं क्योंकि वे आलसी होते हैं। हालाँकि, आलस्य आदत के रूप में भी है।

सफल लोग काम करने के लिए खुद को अनुशासित करते हैं और इसके अनुरूप रहते हैं। और यह एक आदत बन जाती है। यही उनके जीवन में सफलता को आकर्षित करता है।

अपनी दिनचर्या पर सख्त रहें
एक सामान्य दिनचर्या बनाएं जिसका आप पालन कर सके। उसी दिनचर्या का पालन करते हुए, यह आपकी प्रकृति बन जाती है जो हममे अनुसाशन को स्थापित करती है। अपनी खुद की दिनचर्या का तब तक पालन करते रहिये जब तक यह स्वचालित नहीं हो जाता।
दिनचर्या के पालन से न केवल आत्म-अनुशासन विकसित होगा, बल्कि यह आपके जीवन को एक तरह से व्यवस्थित करने में भी मदद करेगा। तुरंत आयोजन शुरू करें। दिनचर्या आपको आलस्य को कम करने, प्राथमिकताओं को स्थापित करने और लक्ष्यों पर नज़र रखने में मदद कर सकते हैं। यह इच्छाशक्ति और प्रेरणा पर आपकी निर्भरता को कम करता है।

समय प्रबंधन
समय कभी किसी की प्रतीक्षा नहीं करता हैं। यह बिल्कुल पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व की तरह ही सत्य है। समय बिना किसी रुकावट के निरंतर चलता रहता है।
यदि कोई व्यक्ति समय की अहमियत को नहीं समझता, तो समय भी उस व्यक्ति की अहमियत को नहीं समझता है। यदि हम अपने समय को नष्ट करेंगे, समय भी हमें बहुत बुरी तरह से नष्ट करेगा।
समय प्रबंधन काम पर अनुसाशन रखने के महत्वपूर्ण पहलु में से एक है। अन्यथा, आप अपने दैनिक कर्तव्यों में फंस जाएंगे। इसलिए, अपने कार्य करने के समय को महत्व दे। 
समय एक विशेष संसाधन है। हर किसी के पास हर दिन एक समान समय होता है, जिसे आप बाद में उपयोग के लिए स्टोर नहीं कर सकते हैं। आप केवल अपने समय के उपयोग को कम मूल्य के क्षेत्रों से उच्च मूल्य के क्षेत्रों में पुनः प्राप्त कर सकते हैं। यही अनुसाशन और सफलता की कुंजी है।

चैलेंज स्वीकार करे
चुनौती का समय अक्सर हमें उन चीजों की अनुभूति करता है जो वास्तव में मायने रखती हैं जो की पहले से हमारे पास हैं। यह हमें स्वयं का परिचय करवाती है, की हम क्या क्या कर सकते है और किस हद तक जा सकते है, पर हमारे श्रेष्ठत्व तक पहुंचने के लिए चुनौती का सामना करना पड़ेगा।
इससे हर अगले कदम पर हम अपने विचार, व्यवहार और आसपास की स्थिति को कैसे नियंत्रित करना हे ये सीखते जायेंगे और यही हमें अनुसाशन की ओर ले जायेगा।

अपने विकास पर ध्यान दें
हम सभी अपने जीवन में जहा है वह से आगे बढ़ाना चाहते है, पर सभी में खामियां और कमजोरियां है जिससे हमें लगता है कि हमारे पास कोई रास्ता नहीं है या हमारे रास्ते में बाधाओं को दूर करने की ताकत नहीं है यह सोच हमारे जीवन के हर पहलू को प्रभावित कर सकती हैं। लेकिन, अच्छी बात यह है कि हमारी सोच पर हम नियंत्रण कर सकते है और हम उन कई खामियों और बाधाओं को बदल सकते हैं जिन्होंने हमें पीछे खींच रखा है। उन बाधाओं और खामियों से निपट खुद पर नियंत्रण हासिल करना ही अनुसाशन है। इसीलिए परिस्थिति चाहे जो भी हो हमेशा खुद के विकास पे ध्यान दे।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ESBI Concept in hindi | ESBI कॉन्सेप्ट हिन्दी मे

आज हर कोई अपनी वित्तीय स्वतंत्रता को लेके गंभीर है, पर इसे पाने के लिए आपको पता होना जरूरी है कि आप किस स्टेज पे है। अगर आपको नहीं पता तो आप नहीं जान सकते कि आपको कहा जाना है। इसे जानने के लिए Robert kiyosaki कि लिखी किताब Cashflow quadrant में दिये गए ESBI Concept का बेहतर तरीके से विवरण करते है। E  : Employee S  : Self employed B  : Big businessman I   : Investor E : Employee Employee अपनी पूरी लाइफ काम करने मै ही निकाल देता है फिर चाहे वो एक मजदूर हो या फिर कंपनी का बड़ा मैनेजर। पूरी लाइफ महेनत करता है फिर भी उसके पास ना पैसे होते है ना खुद के लिए समय। Growth लीनियर होता है यानी एक Employee जितना काम करता है, उसे उतना ही मिलता है। उनका जीवन अस्तित्व के लिए संघर्ष है। वे अक्सर दूसरों के साथ खुद की तुलना करते हैं। वे दूसरों के लिए काम करने की प्रक्रिया में पर्याप्त धन जमा नहीं कर सकते। अफसोस की बात है कि इस श्रेणी में खुद सहित समाज में कई हैं। पूरी जिंदगी कड़ी मेहनत करें, पैसा कमाएं, 30% टैक्स के रूप में सरकार को दें, एक और 30% ब्याज के रूप में बैंकों

Uncover Hidden Treasure | Recognize your limitless potential in Hindi

Uncover Hidden Treasure इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं है। जिस तरह से समय की न ही कोई शुरुआत है न ही अंत, उसी तरह से इंसान की क्षमता की कोई सिमा नहीं है। यदि सब कुछ संभव है और इंसान की क्षमता की कोई सीमा ही नहीं है, तो ऐसा क्या है, जो परिवर्तन को रोक रहा है? यह केवल बहाने हैं जो हम खुद को बताते हैं कि हमें अपनी क्षमता को महसूस करने से रोकते हैं, और यह हमारा डर है जो हमें मन की वास्तविक प्रकृति का अनुभव करने से रोकता है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप ज्ञानी है या अज्ञानी, छोटे है या बड़े है, स्त्री है या पुरुष, काले है या गोर। प्रत्येक व्यक्ति में कोई विशिष्टता जरूर होती है, और उसकी असली पहचान केवल उसके कर्म और सोच में पायी जा सकती है। हम जन्म से ही बोल नहीं सकते, चल नहीं सकते और पढ़ नहीं सकते फिर भी हम सीखते हैं, हम उड़ नहीं सकते फिर भी चाँद और मंगल तक पहुँच गए, पानी के भीतर सांस नहीं ले सकते फिर भी समुद्र की सतह तक पहुंच गए। सच तो यह है की किसी भी परिस्थिति में ढलने की और नया सीखने की हमारी क्षमता ही हमें महान बनाती है। यह जरुरी नहीं है कि हम कैसे पैदा हुए हैं, बल्कि जरुरी ह

Character is ID of human | चरित्र मानव की पहचान है।

एक आनुवांशिक दृष्टिकोण से, मनुष्य स्वयं आत्म-व्याख्या करने वाले प्राणी हैं। मानव संस्कृति में व्याख्यात्मक संसाधनों का विकास शामिल है, वह मनुष्य ने स्वयं को समझने के लिए उपलब्ध किया है, जो उसकी सोचने की क्षमता का परिणाम है, इसीलिए मानव संस्कृति में मनोवैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य प्रमुख हो जाता है, जो व्यक्तित्व या चरित्र के विकास पर जोर देता है। "चरित्र" एक नैतिक रूप से तटस्थ शब्द है। हिटलर जैसे प्रतिष्ठित बदमाशों और स्वामी विवेकानंद जैसे संतों तक हर व्यक्ति का चरित्र है। हम एक व्यक्ति की सबसे प्रमुख विशेषताओं का वर्णन करने के लिए शब्द "चरित्र" का उपयोग करते हैं, यह उन विशेषताओं और लक्षणों का कुल योग है जो किसी व्यक्ति की प्रकृति बनाते हैं। जब किसी व्यक्ति का चरित्र अच्छा हो या किसी व्यक्ति के चरित्र की प्रशंसा करने की भी आवश्यकता नहीं हो, तो इसका मतलब है कि यह एक अच्छा व्यक्ति है जो विश्वास और प्रशंसा के योग्य है। इसलिए जब हम कहते हैं कि किसी के पास अच्छा चरित्र है तो हम यह राय व्यक्त कर रहे हैं कि उसकी प्रकृति अखंडता, साहस और करुणा जैसे योग्य लक्षणों से परिभाषित होती ह