Skip to main content

Why conflict is necessary? | संघर्ष क्यों जरूरी है?

Why conflict is necessary?

कुछ गलत या अव्यवस्थित है।
मेरे कहने का मतलब है "इंसान इतना असंतुष्ट क्यों है?" या थोड़ा और स्पष्ट रूप से कहु तो, "प्रकृति का दिया हुआ हमारे पास सबकुछ है, तो जीवन में इतना संघर्ष क्यों है?"

हालांकि मैं निश्चित रूप से इस सवाल का जवाब नहीं दे सकता, लेकिन मैं उन कुछ चीजों को साझा करना चाहूंगा जिन्हें मैंने इस संबंध में मददगार पाया है। ये दुख की वास्तविकता को कम करने के लिए नहीं हैं। लेकिन वास्तविक दर्द और नुकसान का परिणाम है। लेकिन मेरा मानना ​​है कि इस विषय पर कहने के लिए हमारे पास कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं।

दुनिया कई अलग-अलग समस्याओं से भरी है, लेकिन कई अलग-अलग लोगों से भी। जब आप अलग-अलग लोगों को एक ही समस्या से जोड़ते हैं तो वे अलग-अलग प्रतिक्रिया देंगे, यह उल्टा भी काम करता है जहाँ एक ही व्यक्ति अलग-अलग समस्याओं पर अलग-अलग प्रतिक्रिया दे सकता है। निष्कर्ष में हर कोई चीजों को अलग तरह से देखता है।

हम इस दुनिया में एक दूसरे के साथ जरुरत की डोर से बंधे हुए है। या ये कहना उचित होगा की हम एक ऐसा जीवन जी रहे है जो हमारी जरुरत के आधार पर तय होता है। सच तो यह है की हमारे समाज की परंपरा और रीतिरिवाज हमें एक सिमित जीवन जीने के लिए मजबूर करते है।

हमारी जरूरते ही है जो हमारे जीवन के दुखो का अधिकांश हिस्सा है। लेकिन संघर्ष के बिना दुनिया वास्तव में दर्द रहित होगी। एक पल के लिए सोचें: अगर हमें दर्द का पता ही ना हो, तो हम शांति को कैसे जान पाएंगे, यदि आपको पता नहीं है कि आपको चोट लगी है, तो आप कैसे जानेंगे कि आपको उपचार करने की आवश्यकता है?

जब हम पृथ्वी पर जन्म लेते है तो हम इस तथ्य से जुड़े होते है कि हमारी मृत्यु निश्चित है, केवल एक चीज जो नश्वर है वह है हमारी पवित्र आत्मा।


आत्मा को यहाँ कर्म के आधार पर शरीर प्रदान किया जाता है। शरीर, मन, हृदय और भावनाएं शरीर का हिस्सा हैं जो हमें यहां पृथ्वी पर प्रदान किया जाता है।

समस्याएं, खुशियाँ, विभिन्न अंगों का महसूस करना जैसे कि शरीर, मन, हृदय आदि आभासी हैं। जब कोई हमारे आभासी सम्मान को ठेस पहुंचाएगा तो हम अपमानित महसूस करेंगे, लेकिन आत्मा के साथ कुछ भी जुड़ा नहीं है।

हमारा शरीर प्रकृति के नियम के तहत आता है जैसे की आग के पास जाने पर हमको गर्मी महसूस होगी, बर्फ के पास खड़े होने पर ठंड।

लेकिन, हमारा संघर्ष बेहद आंतरिक है। मानसिक संघर्ष बाहर से स्पष्ट नहीं है, खासकर यदि आप खुद को अलग करते हैं। इसलिए अन्य लोग आपको संघर्ष करते हुए नहीं देख सकते हैं, और आपको ऐसा महसूस हो सकता है कि कोई भी आपके जितना संघर्ष नहीं कर रहा है क्योंकि हम अपने संघर्षों को छिपाते हैं।

यदि कोई संघर्ष नहीं है, तो कोई प्रगति नहीं है।

संघर्ष आपको यह सिखाता है कि आप एक व्यक्ति के रूप में क्या संभाल सकते हैं। यह आपको जीवन की अपरिहार्य कठिनाइयों और दुखों का सामना करने में मदद करता है- अतीत की कठिनाइयों को दूर करने और आगे बढ़ाने के लिए धैर्य को विकसित करने के लिए मदद करता है।

चुनौती बदलाव लाती है। संघर्ष चरित्र का निर्माण करता है। संघर्ष के लिए दृढ़ संकल्प, साहस, तीव्रता और दृढ़ता की आवश्यकता होती है।

मुझे याद है कि जब में छोटा था तो मंदिर में खड़ा भगवान से उन चीज़ो के लिए सिर्फ प्रार्थना करता था, जैसे अच्छे ग्रेड लाना, एक नई साइकिल प्राप्त करना। मैंने कोशिशों में मन नहीं लगाया लेकिन मैं हमेशा चाहता था कि वो चीजें हासिल हों। लेकिन तब किसी ने मुझे कुछ बताया और इसने मेरा जीवन के प्रति दृष्टिकोण बदल गया। -

यदि आप केवल उन चीजों के लिए लड़ते रहें जो आप प्राप्त कर सकते हैं, तो आपको कभी भी ऐसी चीजें नहीं मिलेंगी जो इससे बड़ी हैं।

संघर्ष सफलता का आधार है। अगर असफलता सफलता की सीढी है, तो संघर्ष करना उस पथ्थर की तरह है जो ईमारत बनाते है।


कभी-कभी हम दर्द और कठिनाइयों को एक अलग-थलग अनुभव की तरह महसूस कर सकते हैं। हम महसूस कर सकते हैं जैसे कोई भी यह नहीं समझता है कि हम क्या कर रहे हैं और यह अतिरंजित सोच हमें एक दर्द महसूस करवाती है। हालाँकि, इन परिस्थितियों के बारे में सच्चाई यह है कि अधिकांश लोग जीवन में एक चुनौतीपूर्ण यात्रा पर हैं और क्योंकि संस्कृतियों में गहरी व्यक्तिगत समस्याओं के संचार को प्रोत्साहित नहीं किया जाता है, हम भूल जाते हैं कि हम में से कुछ लोग अकेले अपने लिए विशिष्ट प्रकार की कठिन लड़ाई लड़ रहे हैं।

हालांकि विकास की गलाकाट प्रतिस्पर्धा के चलते हर तरफ नैतिक मूल्यों का ह्रास हो रहा है। आज विकास की अंधी दौड़ एकांगी मनुष्यता का सृजन कर रही है। इस तरह का विकास अपर्याप्त ही नहीं असंगत भी है। विकास की हमारी अवधारणा में गुणवत्ता पर कम और वृद्धि पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है, जबकि विकास ने हमारी जरूरतें बढ़ाईं।

Comments

Popular posts from this blog

ESBI Concept in hindi | ESBI कॉन्सेप्ट हिन्दी मे

आज हर कोई अपनी वित्तीय स्वतंत्रता को लेके गंभीर है, पर इसे पाने के लिए आपको पता होना जरूरी है कि आप किस स्टेज पे है। अगर आपको नहीं पता तो आप नहीं जान सकते कि आपको कहा जाना है। इसे जानने के लिए Robert kiyosaki कि लिखी किताब Cashflow quadrant में दिये गए ESBI Concept का बेहतर तरीके से विवरण करते है। E  : Employee S  : Self employed B  : Big businessman I   : Investor E : Employee Employee अपनी पूरी लाइफ काम करने मै ही निकाल देता है फिर चाहे वो एक मजदूर हो या फिर कंपनी का बड़ा मैनेजर। पूरी लाइफ महेनत करता है फिर भी उसके पास ना पैसे होते है ना खुद के लिए समय। Growth लीनियर होता है यानी एक Employee जितना काम करता है, उसे उतना ही मिलता है। उनका जीवन अस्तित्व के लिए संघर्ष है। वे अक्सर दूसरों के साथ खुद की तुलना करते हैं। वे दूसरों के लिए काम करने की प्रक्रिया में पर्याप्त धन जमा नहीं कर सकते। अफसोस की बात है कि इस श्रेणी में खुद सहित समाज में कई हैं। पूरी जिंदगी कड़ी मेहनत करें, पैसा कमाएं, 30% टैक्स के रूप में सरकार को दें, एक और 30% ब्याज के रूप में बैंकों

Is technology helpful or harmful?

क्या हमें उस दुनिया के बारे में अधिक चिंतित होना चाहिए जिसे हम बना रहे हैं? आज तकनीकी परिवर्तन की गति प्रकृति के बारे में क्या असामान्य है? बेशक, मुझे ऐसी तकनीक पसंद है जो काम और जीवन को थोड़ा आसान बना देती है। मुझे यह पसंद है कि मेरे मोबाइल का अलार्म मुझे याद दिलाएगा जब मुझे सुबह जल्दी उठ कर कही जाना हो। संभवतः मुझे याद दिलाने के लिए स्मार्ट तकनीक पर निर्भर नहीं होना चाहिए। दुर्भाग्य से, मैं निर्भर करता हूं। वास्तव में, अधिक से अधिक हम बहुत सी चीजों के लिए स्मार्ट तकनीक पर निर्भर करते हैं। कई मायनों में यह बहुत अच्छा है। यह अक्सर हमारा समय बचाता है, हमारे काम आता है, और हमें महत्वपूर्ण जानकारी से हमें सचेत करता है। नकारात्मक पक्ष यह है कि मैंने देखा है कि जैसे-जैसे तकनीक पर निर्भरता बढ़ती है, हमारी वास्तविक उत्पादकता घटती जाती है। यह सच है, टेक्नोलॉजी ने हमें कुछ बहुत अविश्वसनीय चीजें करने की अनुमति दी है। मैं इस तथ्य के साथ बहस नहीं कर सकता कि इसने हमें उन समस्याओं को हल करने की अनुमति दी है जो पहले से ही असंभव थीं, लेकिन एक बहुत ही बुनियादी स्तर पर, इन सभी स्मार्ट टेक्नोलॉजी ने हमे

Character is ID of human | चरित्र मानव की पहचान है।

एक आनुवांशिक दृष्टिकोण से, मनुष्य स्वयं आत्म-व्याख्या करने वाले प्राणी हैं। मानव संस्कृति में व्याख्यात्मक संसाधनों का विकास शामिल है, वह मनुष्य ने स्वयं को समझने के लिए उपलब्ध किया है, जो उसकी सोचने की क्षमता का परिणाम है, इसीलिए मानव संस्कृति में मनोवैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य प्रमुख हो जाता है, जो व्यक्तित्व या चरित्र के विकास पर जोर देता है। "चरित्र" एक नैतिक रूप से तटस्थ शब्द है। हिटलर जैसे प्रतिष्ठित बदमाशों और स्वामी विवेकानंद जैसे संतों तक हर व्यक्ति का चरित्र है। हम एक व्यक्ति की सबसे प्रमुख विशेषताओं का वर्णन करने के लिए शब्द "चरित्र" का उपयोग करते हैं, यह उन विशेषताओं और लक्षणों का कुल योग है जो किसी व्यक्ति की प्रकृति बनाते हैं। जब किसी व्यक्ति का चरित्र अच्छा हो या किसी व्यक्ति के चरित्र की प्रशंसा करने की भी आवश्यकता नहीं हो, तो इसका मतलब है कि यह एक अच्छा व्यक्ति है जो विश्वास और प्रशंसा के योग्य है। इसलिए जब हम कहते हैं कि किसी के पास अच्छा चरित्र है तो हम यह राय व्यक्त कर रहे हैं कि उसकी प्रकृति अखंडता, साहस और करुणा जैसे योग्य लक्षणों से परिभाषित होती ह